एक निर्धन परिवार की होनहार बेटी थी अनुष्का पांडेय

एक निर्धन के परिवार की होनहार बेटी थी वह। 
नाम : अनुष्का पांडेय
पुत्री : सुभाष पांडेय
निवासी: गोपीनाथ अड्डा, मैनपुरी, उ.प्र. ।
नवोदय विद्यालय, भोगांव, मैनपुरी मैं 11 वीं कक्षा की छात्रा थी । 
10 वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा में उसने 92.8% के साथ टॉप किया था । 
16 सितम्बर की सुबह उसके एक रिश्तेदार विजय मिश्रा ने उसका शव मैनपुरी के सरकारी हॉस्पिटल मे देखा तो बच्ची के परिवार को सूचना दी वहां मौजूद स्कूल के स्टाप से इसके बारे में पुछताछ करने पर वे कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए और इस प्रकरण को आत्महत्या बताने लगे । 
जबकि लड़की के शरीर पर चोट के निशान मौजूद थे जो किसी दूसरी तरफ ही इशारा कर रहे थे जिनका जिक्र पुलिस द्वारा भरे गए पंचनामे में भी है ।
लेकिन पोस्टमार्टम रिपॉर्ट मे उन निशानों का कोई जिक्र तक नहीं है और मृत्यु का कारण फाँसी लगाना बताया गया है । 
पर अगर सब कुछ ठीक है तो पोस्टमॉर्टम मे वह चोट क्यों नहीं दर्शायी गयी जो की साफ़ नज़र आ रही है । 
यह चीज़ संशय को जन्म देती है, दूसरी बात अगर स्कूल प्रबंधन कुछ छुपा नहीं रहा है तो घटना की जानकारी होने पर लड़की के घरवालों और पुलिस या प्रशासन को सूचना क्यों नहीं दी गयी चुपचाप हॉस्पिटल लाने के पीछे क्या मंशा थी ।
इसमें एक बात गौर करने योग्य यह है 15 सितम्बर की शाम को अनुष्का ने फ़ोन पर अपनी माँ से बात की थी और कोई भी असामान्य व्यव्हार परिलक्षित नहीं हुआ उस वार्तालाप के दौरान, फिर सुबह अचानक उसकी मृत्यु का समाचार मिला । 
अनुष्का बहुत ही निर्धन परिवार से थी उसके पिता सीतापुर, उ.प्र. मैं एक प्राइवेट नौकरी करके परिवार का भरण पोषण करते है । अनुष्का की माँ मैनपुरी मे अपने पारिवारिक मकान मे एक कमरे में रहती है।


Featured Post

भारत सरकार ने दूरस्थ शिक्षा की गुणवत्ता पर लगाई मोहर: प्रोफेसर सीमा सिंह

कानपुर। मुक्त और दूरस्थ शिक्षा को उच्च शिक्षा से वंचित ग्रामीण अंचलों के शिक्षार्थियों के द्वार तक ले जाने में अध्ययन केंद्र बहुत महत्वपूर्ण...