-प. दीनदयाल उपाध्याय जयंती- शहर को पॉलीथिन मुक्त बनाने का लिया संकल्प। 

-प. दीनदयाल उपाध्याय जयंती-
शहर को पॉलीथिन मुक्त बनाने का लिया संकल्प। 
कानपुर। पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर बुधवार को भाजपाइयों ने बूथ स्तर पर कार्यक्रम आयोजित कर उनकी जीवनी पर चर्चा कर शहर को पॉलीथिन मुक्त बनाने का संकल्प लिया। भाजपाइयों ने गोविंद नगर स्थित आदर्श चौराहा पर स्थापित सरदार भगत सिंह की प्रतिमा व पंडित दीनदयाल उपाध्याय के चित्र पर माल्यार्पण कर एवं पुष्प अर्पित कर उनकी जीवनी पर प्रकाश डालते हुए कहा कि जनसंघ की स्थापना के समय वे इसके प्रथम महासचिव बने ।वे लगातार लगभग 16 साल तक जनसंघ के महासचिव बने रहे ।उनकी कार्यक्षमता और परिपूर्णता के गुणों से प्रभावित होकर डॉक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी कहा करते थे कि "यदि मेरे पास दो दीनदयाल हो तो मैं भारत का राजनीतिक चेहरा बदल सकता हूं"। पंडित दीनदयाल उपाध्याय महान चिंतक थे ।उन्होंने भारत की सनातन विचारधारा को युगानुकूल रूप में प्रस्तुत करते हुए देश को एकात्म मानव दर्शन जैसी प्रगतिशील विचारधारा दी। उनका मानना था कि जब तक समाज के सबसे निचले पायदान पर खड़े व्यक्ति के चेहरे पर मुस्कान नहीं आ जाती तब तक हम एक मजबूत राष्ट्र व समाज की संकल्पना नहीं कर सकते ।उनकी इसी सोच को देश के प्रधानमंत्री मोदी व केन्द्र सरकार ने अंगीकार करते हुए केंद्र सरकार की ज्यादातर योजनाएं आम गरीबों व मजलूमो को समर्पित है ।केंद्र सरकार की इन गरीब कल्याणकारी योजनाओं से लाभान्वित होकर उनके चेहरों पर  छाई निराशा और उदासी ,आशा व मुस्कान में बदल गई है ।एक तरह से केंद्र सरकार दीनदयाल उपाध्याय के सपनों को साकार करने में लगी है ।उनकी जीवनी पर चर्चा के बाद भाजपाइयों ने आसपास पॉलीथीन कचरा एकत्रित कर उसे डस्टबिन में डाला ।तत्पश्चात चावला मार्केट चौराहा तक दुकानदारों से पॉलीथिन का प्रयोग न करने की अपील की ।कार्यक्रम में प्रमुख रुप से पूर्व उपसभापति नवीन पंडित , जिला उपाध्यक्ष संदीपन अवस्थी,मंडल अध्यक्ष राजेश श्रीवास्तव,प्रकाश वीर आर्य, अनिता दीक्षित,मार्शल गुप्ता, संजीव दीक्षित,सुरेन्द्र कुमार गेरा,रवि शंकर सिंह ,शम्मी भल्ला आदि थे।


Featured Post

पंडित दीनदयाल विकास प्रदर्शनी व मेले का हुआ उद्घाटन

आज सचेंडी दशहरा मेला मैदान में  पंडित दीनदयाल विकास प्रदर्शनी एवम मेला का शुभ उदघाटन हुआ, जिसमे मुख्य रूप से ग्राम प्रधान सचेंडी पति रामकुमा...