कोरोना ने बढ़ाई बैंक कर्मियों की मुसीबत


कोरोना ने बढ़ाई बैंक कर्मियों की मुसीबत


कानपुर। प्रधानमंत्री जी के लॉकडाउन की घोषणा के बाद बैंको में भीड़ काफी कम हो गयी थी। लेकिन वित्त मंत्री के राहत पैकेज के ऐलान के बाद विभिन्न सरकारी योजनाओं में खुले खातों, जनधन खातों से निकासी को लेकर सोमवार को सभी शाखाओ में भीड़ उमड़ पड़ी जिससे बैंक कर्मचारियों को काफी  दिक्कतों का सामना करना पड़ा। 



भारतीय बैंक संघ (IBA) द्वारा पहले ही अपने परिपत्र के माध्यम से जनता को सूचित कर दिया था कि बैंक  एसेंशियल सर्विसेज के अंतर्गत लॉकडाउन में खुलेंगे लेकिन केवल अतिआवश्यक कार्य जैसे नकद जमा एवं निकासी, सरकारी लेनदेन, चेक क्लीयरिंग एवं रेमिटेनसेस हेतु ही बैंक जाए। अन्य कार्य हेतु नहीं। लेकिन अभी भी लोग गैर जरूरी काम जैसे पासबुक प्रिंटिंग आदि के लिए बैंक जा रहे है जिससे बैंक कर्मचारियों द्वारा जनता को समझाने में  काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।
ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कॉन्फ़ेडरेशन के कानपुर इकाई के अध्यक्ष मनोज चतुर्वेदी ने कानपुर प्रशासन से मांग की कि शीघ्र ही सभी बैंक शाखाओं को सैनेटाइज करवाया जाए क्योंकि बैंको से कोरोना फैलने का खतरा सर्वाधिक है क्योंकि यह नोटों का लेनदेन होता है। बैंक ऑफ इंडिया कल्याणपुर शाखा प्रबंधक *सौरभ यादव* ने कहा कि सरकार एवं प्रशासन द्वारा सभी शाखाओं में सुरक्षा की उचित व्यवस्था करवाई जाए। सभी शाखाओ में शासन द्वारा मास्क एवं सेनिटाइजर उपलब्ध कराया जाए जिसे ग्राहकों हेतु प्रयोग में लाया जा सके। बैंक ऑफ इंडिया के आर पी सिंह एवं अंकित अवस्थी ने कहा कि बैंकर इस वैश्विक आपदा में जनता की सेवा हेतु प्रतिबद्ध है किन्तु कर्मचारी हितों एवं सुरक्षा का उचित इंतजाम करना सरकार का दायित्व है।



देश का आर्थिक सिपाही अर्थात बैंक कर्मचारी जनता की सेवा हेतु प्रतिबद्ध है किंतु आप लोगो से निवेदन है कि केवल अति जरूरी काम हेतु ही बैंक आये और लॉकडाउन को सफल बनायें।
*सौरभ यादव*शाखा प्रबंधक ने बतया  की ये सब  दिक्कतो का सामना करना पड़ा रहा है 


बैंक ऑफ इंडिया कल्याणपुर


Featured Post

भारत सरकार ने दूरस्थ शिक्षा की गुणवत्ता पर लगाई मोहर: प्रोफेसर सीमा सिंह

कानपुर। मुक्त और दूरस्थ शिक्षा को उच्च शिक्षा से वंचित ग्रामीण अंचलों के शिक्षार्थियों के द्वार तक ले जाने में अध्ययन केंद्र बहुत महत्वपूर्ण...