अपराधी विकास दुबे ने कहा, शवों को जलाकर सबूत मिटाने की थी योजना


विकास दुबे ने कहा, मैंने सभी साथियों को अलग अलग भागने को कहा था। आगे उसने कहा कि एनकाउंटर के डर से फायरिंग की। इसके अलावा उसने कहा कि चौबेपुर के अलावा कई थानों में मेरे मददगार थे। 


कानपुर गोलीकांड के आरोपी कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे को उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार कर लिया गया है। उससे अज्ञात स्थान पर मध्यप्रदेश पुलिस पूछताछ कर रही है। उसे यूपी लाने के लिए एक यूपी पुलिस की एक टीम जल्द ही मध्यप्रदेश पहुंचेगी। वहीं विकास दुबे उत्तर प्रदेश के नंबर प्लेट वाली एक गाड़ी से मध्यप्रदेश पहुंचा था। गाड़ी पर हाईकोर्ट लिखा हुआ है। इसी कारण वह आसानी से सीमा पार कर पाया। गाड़ी किसी मनोज यादव के नाम पर पंजीकृट बताई जा रही है।


Featured Post

भारत सरकार ने दूरस्थ शिक्षा की गुणवत्ता पर लगाई मोहर: प्रोफेसर सीमा सिंह

कानपुर। मुक्त और दूरस्थ शिक्षा को उच्च शिक्षा से वंचित ग्रामीण अंचलों के शिक्षार्थियों के द्वार तक ले जाने में अध्ययन केंद्र बहुत महत्वपूर्ण...