गाजियाबाद: छेड़खानी का विरोध करने पर बदमाशों ने पत्रकार को मारी गोली


छेड़खानी का विरोध करने पर दिल्ली के करीब गाजियाबाद में सोमवार रात एक पत्रकार को गोली मार दी गई। उनकी हालत बेहद गंभीर बताई गई है। पत्रकार का नाम विक्रम जोशी है। पुलिस ने 9  आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। इनसे पूछताछ की जा रही है। लापरवाही के आरोप में प्रताप विहार चौकी के इंचार्ज राघवेंद्र सिंह को सस्पेंड कर दिया गया है। 


जानकारी के मुताबिक, पत्रकार विक्रम सोमवार रात बाइक पर दो बेटियों के साथ जा रहे थे। तभी कुछ लोगों ने उन्हें रोका और मारपीट की। इस दौरान बेटियां डर की वजह से भागने लगीं। बदमाशों ने विक्रम के सिर पर गोली मार दी। उन्हें हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया। घटना का सीसीटीवी फुटेज भी मिला है।


इस मामले में 9 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। इनके नाम हैं- रवि, छोटू, मोहित, दलवीर, आकाश, योगेंद्र, अभिषेक हकला और शाकिर। मामले में शिकायत के बाद भी कार्रवाई न करने पर प्रताप विहार चौकी इंचार्ज राघवेंद्र को निलंबित कर दिया है। जांच सीओ को सौंपी गई है। 


परिवार का पुलिस पर आरोप
परिजनों का आरोप है कि कुछ बदमाश पत्रकार की भांजी के साथ छेड़छाड़ करते थे। इसकी शिकायत उन्होंने थाने में की थी। लेकिन, पुलिस ने वक्त रहते कार्रवाई नहीं की। बदमाश शिकायत से नाराज थे।  


प्रियंका गांधी का तंज


प्रियंका गांधी वाड्रा ने पत्रकार पर हमले के मामले में ट्वीट कर प्रदेश सरकार की कानून व्यवस्था पर हमला बोला। उन्होंने लिखा- गाजियाबाद एनसीआर में है। यहां कानून व्यवस्था का ये आलम है तो आप पूरे यूपी में कानून व्यवस्था के हाल का अंदाजा लगा लीजिए। एक पत्रकार को इसलिए गोली मार दी गई क्योंकि उन्होंने भांजी के साथ छेड़छाड़ की तहरीर पुलिस में दी थी। इस जंगलराज में कोई भी आमजन खुद को कैसे सुरक्षित महसूस करेगा?


Featured Post

भारत सरकार ने दूरस्थ शिक्षा की गुणवत्ता पर लगाई मोहर: प्रोफेसर सीमा सिंह

कानपुर। मुक्त और दूरस्थ शिक्षा को उच्च शिक्षा से वंचित ग्रामीण अंचलों के शिक्षार्थियों के द्वार तक ले जाने में अध्ययन केंद्र बहुत महत्वपूर्ण...