रायबरेली अखिल भारतीय आर्युविज्ञान संस्थान के लिये जमीन देने वाले किसान मुआवजे को लेकर परेशान




अपनी जमीन पर न खेती कर पा रहे हैं और न ही किसानों को मुआविजा मिला : दिग्विजय

 

228 किसानों को जमीन पर अधिग्रहण की तैयारी , 49 एकड़ जमीन प्रथम चरण में की गयी अधिग्रहीत

 

42.76 करोड़ रूपया मुआविजा वापस गया , किसानों प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमन्त्री को भेजा ज्ञापन

 

रायबरेली के दरियापुर सुल्तानपुरखेड़ा के 228 किसानों की भूमि अखिल भारतीय आर्युविज्ञान संस्थान के लिए अधिग्रहण की तैयारी चल रही है, जिसमें 49 एकड़ भूमि अधिग्रहीता की जा चुकी है, जिसका मुआविजा 42.76 करोड़ रूपये भूमि जिलाधिकारी के पास शासन से अवमुक्त भी हो चुका था, लेकिन प्रशासन की लचर नीति के कारण किसानों को समय से मुआविजा नहीं मिला। कोरोना को ढाल बनाकर मुआविजे की धनराशि शासन को वापस कर दी गयी। किसानों का एक प्रतिनिधि मण्डल ने जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमन्त्री को ज्ञापन भेजा। जिलाधिकारी की ओर से वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी मंजू दीक्षित ने ज्ञापन प्राप्त किया। इस अवसर पर किसान दिग्विजय ने कहा कि किसान न तो अपनी जमीन पर खेती कर पा रहे हैं और न ही मुआविजा मिल रहा है। जिसके कारण प्रभावित किसानों के परिवार भुखमरी के कगाज पर हैं।

इस अवसर पर मुख्य रूप से रमा प्रसाद पाण्डेय, मनीष पाण्डेय, सोनू यादव, गौरी पाण्डेय, विनोद पाण्डेय, अनुज पाण्डेय, मनीष चैरसिया, मोहित यादव, संदीप पासवान, पंकज कुमार, विनोद विश्वकर्मा, राकेश कुमार, सुरेन्द्र प्रताप, रामफेर, प्रकाश आदि लोग उपस्थित रहे।