कोरोना की जीएसवीएम और कोव-2 की पुणे में होगी जांच

 


ब्रिटेन और यूरोपीय देशों से आने वाले लोगों की दो तरह की जांच होगी। पहले उनकी कोविड-19 की जांच की जाएगी। अगर कोई इसमें पॉजीटिव आता है तो फिर उसका सैंपल जांच के लिए नेशनल इंस्टीट्यूट आफ वायरोलॉजी पुणे कोव-2 की जांच के लिए भेजा जाएगा।

अगर कोई कोव-2 संक्रमित निकलता है तो उसका इलाज लक्षणों के आधार पर होगा। जीएसवीएम मेडिकल कालेज के विशेषज्ञ दूसरे देशों के विशेषज्ञों से भी इस संबंध में बात कर रहे हैं। मेडिकल कालेज के प्राचार्य डॉ. आरबी कमल ने बताया कि कोव-टू के संदिग्ध व्यक्ति की दो जांचें होंगी।

यहां आरटीपीसीआर जांच होगी और दूसरी जांच पुणे में कराई जाएगी। पुणे की जांच से ही पता चलेगा कि व्यक्ति कोव-टू से संक्रमित है। इलाज के लिए अलग से व्यवस्था कर दी गई है। मैटरनिटी विंग के एक फ्लोर इसके लिए आरक्षित कर दिया गया है। कोव-2 जिन देशों में फैला है, वहां भी जीएसवीएम के पुरातन छात्र हैं, उनसे भी इस संबंध में बातचीत की जा रही है।


Featured Post

कानपुर से उत्तर भारत के सर्वक्षेष्ठ ज्योतिष अवार्ड से सम्मानित किए गए आदित्य पांडेय

मुंबई। सहारा स्टार होटल में ब्रांडेड पावर द्वारा कारपोरेट अवार्ड घोषित किए गए। जिसमें पद्मश्री पद्म विभूषण प्राप्त एक्टर अनुपम खेर द्वारा अव...