दोपहर बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट में हाथरस केस की सुनवाई आज


 इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ में आज दोपहर बाद हाथरस केस की सुनवाई होनी है। कोर्ट में  जांच की स्टेट्स रिपोर्ट दाखिल कर सकती है। पिछली तारीख पर 25 नवंबर को भी ने स्टेट्स रिपोर्ट दाखिल करते हुए वादा किया था कि 10 दिसंबर तक जांच पूरी होने की संभावना है। इसके अलावा राज्य सरकार ने हाथरस के प्रवीण कुमार को क्लीनचिट देते हुए हलफनामा दाखिल किया था। आज कोर्ट उस पर अपना कोई निर्णय दे सकती है। कोर्ट में आज पीड़ित परिवार नहीं होगा। सिर्फ पीड़ित परिवार की वकील सीमा कुशवाहा, के अधिकारी और सरकारी वकील ही रहेंगे।

बता दें कि लखनऊ खंडपीठ के जस्टिस पंकज मित्तल और जस्टिस राजन रॉय की बेंच ने हाथरस मामले में स्वतः संज्ञान द्वारा ‘गरिमापूर्ण ढंग से अंतिम संस्कार के अधिकार’ टाइटिल से जनहित याचिका दर्ज किया था। इस केस की सुप्रीम कोर्ट में भी सुनवाई हुई थी। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने सभी मामलों की सुनवाई हाईकोर्ट में ही होने का आदेश दिया था। उधर, पीड़ित परिवार की सुरक्षा में की एक टुकड़ी घर पर तैनात है।

25 नवंबर को न्यायालय द्वारा पूछे जाने पर के अधिवक्ता ने बताया था कि 10 दिसम्बर तक जांच पूरी होने की सम्भावना है। उनका कहना था कि मामले में कई फॉरेंसिक रिपोर्ट आनी है, जिनके इंतजार की वजह से समय लग रहा है। बता दें कि केस के चारों आरोपी अलीगढ़ जेल में बंद थे। ने गुजरात के गांधीनगर स्थित फॉरेंसिक साइंस लेबोरेटरी में सभी का लाई डिटेक्शन टेस्ट और नार्को टेस्ट कराया है। इस दौरान आरोपी साबरमती जेल में रहे थे।

14 सितंबर को उत्तर प्रदेश के हाथरस में एक दलित लड़की के साथ कुछ युवकों ने कथित तौर पर गैंगरेप किया और बाद में उसके साथ मारपीट की। लड़की की हालत गंभीर होने पर उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां 29 सितंबर को उसकी मौत हो गई।

आनन-फानन में लड़की के शव को हाथरस लेकर आई पुलिस ने बिना किसी परिवार के सदस्य की मौजूदगी के अंतिम संस्कार कर दिया था। इसके बाद इस पूरे मामले ने राजनीतिक रंग ले लिया और प्रदेश सरकार की चौतरफा फजीहत हुई। बाद में योगी सरकार ने मामले की निष्पक्ष जांच के लिए जांच की सिफारिश की थी।