गंगा समग्र राष्ट्रीय बैठक बनेगी रणनीति

 


नदियों, तालाबों और सभी तरह के जल स्रोतों को बचाने के लिए 19 और 20 फरवरी को प्रयागराज में होने वाली गंगा समग्र की राष्ट्रीय बैठक की तैयारी तेज हो गई है। सरसंघचालक मोहन भागवत की उपस्थिति वाली इस बैठक से पहले 30 दिसंबर को बिठूर में एक बैठक प्रस्तावित है।

इसमें संघ के कई प्रमुख पदाधिकारियों के अलावा गंगा समग्र की प्रांतीय टोली, जिला टोली के पदाधिकारियों के साथ योजना को लेकर चर्चा होगी। इसी कड़ी में रविवार को गंगा समग्र का राष्ट्रीय वेबिनार हुआ। संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्ण गोपाल ने सभी समग्र पदाधिकारियों के साथ संघ प्रमुख की होने वाली बैठक में रखे जाने वाले सभी विषयों पर चर्चा की गई।

तय किया गया कि प्रत्येक प्रांत से नदी, तालाब संरक्षण अभियान से ज्यादा से ज्यादा लोगों को जोड़ा जाएगा। नदियों में प्रदूषित कचरे को रोकने, तालाबों को पुनर्जीवित करने के संबंध में लोगों को जागरूक किया जाएगा। यह भी बताया गया कि ऐसा पहली बार होगा जब संघ प्रमुख गंगा समग्र की दो दिवसीय बैठक में भाग लेंगे।

इसमें देश भर से सिर्फ गंगा समग्र के दायित्व वाले कार्यकर्ता रहेंगे। ऑनलाइन वेबिनार में महामंत्री आशीष गौतम, संगठन मंत्री मिथलेश नारायण, सचिव ब्रजेंद्र पाल और गंगा समग्र के प्रदेश संयोजक राघवेंद्र सिंह शामिल हुए।



Featured Post

भारत सरकार ने दूरस्थ शिक्षा की गुणवत्ता पर लगाई मोहर: प्रोफेसर सीमा सिंह

कानपुर। मुक्त और दूरस्थ शिक्षा को उच्च शिक्षा से वंचित ग्रामीण अंचलों के शिक्षार्थियों के द्वार तक ले जाने में अध्ययन केंद्र बहुत महत्वपूर्ण...