बदमाशों ने गोदाम में रेकी के बाद की वारदात

 


आगरा की लॉयर्स कॉलोनी स्थित कोठी में चल रहे हिंदुस्तान लीवर कंपनी के गोदाम में शनिवार रात को मालिक प्रवीन बंसल की पत्नी शालिनी सहित तीन को बंधक बनाकर लूट करने वाले बदमाश रेकी करके आए थे। उन्हें पता था कि मालिक कौन है? इसलिए गोदाम में घुसते ही उनका नाम लिया। अपना भी नाम और पता बताया? इसके बाद गोदाम से बाहर जाकर सिगरेट भी खरीदी। दोनों ने अपने चेहरे छिपाए हुए थे। एक के पास दो तमंचे तो दूसरे के पास एक तमंचा था। उनकी बोली आम थी। पुलिस को अंदेशा है कि स्थानीय गैंग ने वारदात की है। वहीं पूर्व कर्मचारी पर भी पुलिस को शक है। 

गार्ड करन सिंह ने पुलिस को बताया कि बदमाशों की उम्र 25 से 30 वर्ष ही थी। वह जान से मारने की धमकी दे रहे थे। इस कारण किसी ने शोर नहीं मचाया। कर्मचारी की बाइक भी बाद में मिल गई। इससे आशंका है कि बदमाशों के और भी साथी हो सकते हैं, जोकि कुछ दूरी पर खड़े हुए होंगे। बदमाश जाते समय गोदाम में लगे सीसीटीवी कैमरों की डीवीआर भी उखाड़कर ले गए। गोदाम के सामने ही एक दुकान है। उस पर भी कैमरा लगा था, जिसमें बदमाश कैद हो गए हैं। अब पुलिस इन्हीं फुटेज की मदद से बदमाशों की तलाश में लगी है। 


एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि बदमाशों की तलाश के लिए टीम गठित कर दी गई हैं। स्थानीय गैंग पर वारदात का शक है। एक पूर्व कर्मचारी कुछ दिन पहले नौकरी छोड़कर चला गया था। शाम को वह गोदाम पर आया था। वह कुछ रकम देकर गया था। उसके बारे में भी पता किया जा रहा है।

जिस कोठी में हिंदुस्तान लीवर का गोदाम चल रहा है, वह सेवानिवृत्त डिप्टी एसपी ओपी शर्मा की है। वह फिरोजाबाद के शिकोहाबाद में रहते हैं। उनका एक रिश्तेदार कोठी की पहली मंजिल पर रहता है। भूतल पर गोदाम चलता है। वह कभी कभार ही आते हैं। लॉयर्स कॉलोनी में तीन साल पहले एक कोठी में बदमाश घुस गए थे। हालांकि घेराबंदी के बाद एक बदमाश पकड़ लिया गया था। अब फिर से कोठी में वारदात से लोग दहशत में आ गए हैं। लोगों का कहना था कि पुलिस की गश्त नहीं रहती है। 

प्रवीन बंसल जब गोदाम पर पहुंचे, तब अंदर कमरे से पत्नी के चीखने की आवाज आ रही थी। बाहर से ताला लगा हुआ था। उन्होंने ताला तोड़ा। इसके बाद ही तीनों को बाहर निकाला जा सका। घटना की जानकारी पर एसएसपी बबलू कुमार, एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद फोर्स के साथ पहुंचे।


Featured Post

भारत सरकार ने दूरस्थ शिक्षा की गुणवत्ता पर लगाई मोहर: प्रोफेसर सीमा सिंह

कानपुर। मुक्त और दूरस्थ शिक्षा को उच्च शिक्षा से वंचित ग्रामीण अंचलों के शिक्षार्थियों के द्वार तक ले जाने में अध्ययन केंद्र बहुत महत्वपूर्ण...