। पंजाब से कानपुर लौटी एसआइटी,आरोपितों की तलाश


कानपुर।
 सिख विरोधी दंगे के दौरान शहर में कल्याणपुर के शारदानगर में एक परिवार के दो सदस्यों की हत्या के मामले में स्वजन से पूछताछ करने के बाद विशेष जांच टीम (एसआइटी) पंजाब से लौट आई है। अब एसआइटी बयानों के आधार पर सामने आए दंगाइयों की तलाश में जुटी है। अर्मापुर थाने में दर्ज हुए एक मुकदमे में बयान लेने टीम जल्द ही मध्यप्रदेश के जबलपुर जाएगी। 

कानपुर में सिख विरोध दंगे के दौरान शारदानगर में हुकुम सिंह के दो बेटों भगत ङ्क्षसह और हरबंश ङ्क्षसह की हत्या की गई थी। भगत ङ्क्षसह का परिवार तो शहर में ही रह रहा है, मगर हरबंश सिंह व उनके दो अन्य भाइयों का परिवार पंजाब के मोहाली में रह रहा है। पिछले दिनों एसआइटी ने मोहाली जाकर हरबंश ङ्क्षसह की पत्नी और दो अन्य भाइयों की पत्नियों केबयान लिए थे।

सोमवार को टीम पंजाब से लौटी। शारदानगर के उन दंगाइयों की तलाश अब शुरू कर दी है, जिन्होंने वारदात को अंजाम दिया था। अर्मापुर एस्टेट में हुई पिता-पुत्र की हत्या के मामले में भी एक पीडि़त परिवार के बयान लेने के लिए टीम को जबलपुर जाना है। सूत्रों के मुताबिक जबलपुर में रह रहे पीडि़त परिवार से फोन पर एसआइटी की बात हुई है। उनके बयान लेने के लिए टीम मध्यप्रदेश रवाना होगी।


Featured Post

भारत सरकार ने दूरस्थ शिक्षा की गुणवत्ता पर लगाई मोहर: प्रोफेसर सीमा सिंह

कानपुर। मुक्त और दूरस्थ शिक्षा को उच्च शिक्षा से वंचित ग्रामीण अंचलों के शिक्षार्थियों के द्वार तक ले जाने में अध्ययन केंद्र बहुत महत्वपूर्ण...