प्रधानमंत्री ने कौशांबी के कैदियों के प्रयासों की सराहना की

 


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अपने कार्यक्रम मन की बात में उत्तर प्रदेश के कौशांबी जिला जेल के कैदियों के प्रयास की खूब सराहना की। दरअसल, यहां गायों को ठंड से बचाने के लिए फटे कंबलों से कोट तैयार किया जा रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जो रोजाना सैकड़ों की संख्या में पशुओं के लिए भोजन का इंतजाम करते हैं, उनके प्रयास की सराहना होनी चाहिए। ऐसा ही एक नेक प्रयास उत्तर प्रदेश के कौशांबी में भी किए जा रहे हैं। जेल में बंद कैदी गायों को ठंड से बचाने के लिए फटे व पुराने कंबलों से कवर बना रहे हैं। इन कंबलों कौशांबी समेत अन्य जिलों की जेलों से मंगाए जाते हैं। यहां सिलाई के बाद उन्हें UP की गोशाला भेज दिया जाता है। हर सप्ताह अनेक कवर तैयार कर रहे हैं। दूसरों की देखभाल के लिए इस तरह के सेवाभाव से कार्य को प्रोत्साहित करना चाहिए।

दरअसल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सर्दियों से बचाव के लिए पशु चिकित्सा अधिकारियों को गायों के लिए उचित व्यवस्था करने का निर्देश दिया था। इसके बाद से अफसरों ने गायों के लिए कवर, कोट की व्यवस्था शुरू की है। लेकिन कौशांबी जेल में फटे, पुराने कंबलों से गायों के लिए कवर बनाने का काम पहली बार शुरू हुआ है। यहां 10-10 के ग्रुप में कैदी कोट बनाने काम कर रहे हैं। जिले की मंझनपुर की एक गौशाला में 50 कोट की आपूर्ति की जा रही है। एक माह में करीब हजार कोट बनाने का लक्ष्य जेल प्रशासन द्वारा तय किया गया है।

जेल अधीक्षक बीएस मुकुंद बताते हैं कि कैदियों के जीवन में बदलाव लाने की मंशा से उनकी काउंसलिंग की। इसके बाद कैदियों ने पुराने और खराब हो चुके कंबल से एक ऐसा कोट तैयार किया, जिसका प्रयोग गौशाला में निराश्रित पशुओं को ठंड से बचाने की लिए किया जा रहा है। पहले चरण में कोट का वितरण करारी की बधवा रजभर गौशाला में किया गया है। गौशाला के आश्रय गृह में 100 पशुओं को कोट पहना कर इसका शुभारंभ जिलाधिकारी अमित कुमार सिंह ने शनिवार को किया था।


Featured Post

भारत सरकार ने दूरस्थ शिक्षा की गुणवत्ता पर लगाई मोहर: प्रोफेसर सीमा सिंह

कानपुर। मुक्त और दूरस्थ शिक्षा को उच्च शिक्षा से वंचित ग्रामीण अंचलों के शिक्षार्थियों के द्वार तक ले जाने में अध्ययन केंद्र बहुत महत्वपूर्ण...