इंजीनियर की मौत मामले में दर्ज

 


रखपुर फर्टिलाइजर के इंजीनियर सूरज की मौत के मामले में रिश्तेदारी की एक भाभी का नाम सामने आ रहा है। पुलिस को पता चला है कि सूरज और रिश्ते में लगने वाली भाभी साथ पढ़ चुके हैं। सूरज महिला की शादी के बाद भी उससे फोन पर बातचीत करता था।

सूरज के भाई ने पुलिस को बताया है कि महिला का एक बच्चा भी है। वह अब सूरज से रिश्ते को आगे नहीं बढ़ाना चाहती थी। इसी बात पर दोनों के बीच विवाद हुआ था। इस मामले में जल्द ही पुलिस सूरज के भाई की तहरीर पर पश्चिम बंगाल की उस रिश्तेदार महिला के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का केस दर्ज कर सकती है। उधर, पुलिस का कहना है कि फोरेंसिक जांच में भी खुदकुशी के ही साक्ष्य मिले हैं 

जानकारी के मुताबिक, झारखंड प्रांत के गिरिडीह जिले के धनवार थाना क्षेत्र के राजधांबाद निवासी सूरज का शव बुधवार सुबह चिलुआताल इलाके के झुंगिया स्थित इंपीरियल अपार्टमेंट कैंपस में मिला था। सीसीटीवी कैमरे में गिरते हुए तस्वीर भी कैद है, लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट में एक भी हड्डी नहीं टूटने और शरीर पर गंभीर घाव नहीं होने से सवाल उठ रहा है।

सीडीआर सामने आने के बाद पुलिस ने उस महिला का पता लगाया, जिससे सूरज की लगातार बात हो रही थी। फोन नंबर की जांच की गई तो पता चला कि वह सूरज की रिश्तेदारी की एक महिला है, जिससे सूरज के नजदीकी संबंध हो गए थे।

इस संबंध में पुलिस ने सूरज के भाई गौरव से बातचीत की तो उसने सूरज की महिला से दोस्ती की बात को स्वीकार किया। अब पुलिस ने गौरव को तहरीर देने के लिए बुलाया है। फोरेंसिक जांच में भी अभी तक पुलिस को खुदकुशी के ही साक्ष्य मिले हैं।

इंस्पेक्टर नीरज राय ने बताया कि खुदकुशी के ही साक्ष्य मिले हैं। मामले की जांच जारी है। सूरज के भाई को बुलाया गया है। उनके आने पर तहरीर के आधार पर केस दर्ज किया जाएगा।

छह मंजिला इमारत से गिरने के बाद भी एक हड्डी ना टूटने से सूरज की खुदकुशी की थ्योरी पर अब भी सवाल उठ रहे हैं। मगर जांच में अभी तक कोई ऐसा तथ्य भी सामने नहीं आया है, जिससे यह पुष्ट हो सके कि सूरज ने खुदकुशी नहीं की है। सीडीआर से जो कारण सामने आए हैं, वह भी खुदकुशी की ओर ही इशारा कर रहे हैं।



Featured Post

भारत सरकार ने दूरस्थ शिक्षा की गुणवत्ता पर लगाई मोहर: प्रोफेसर सीमा सिंह

कानपुर। मुक्त और दूरस्थ शिक्षा को उच्च शिक्षा से वंचित ग्रामीण अंचलों के शिक्षार्थियों के द्वार तक ले जाने में अध्ययन केंद्र बहुत महत्वपूर्ण...