वृंदावन कुंभ की व्यवस्था प्रयागराज जैसी होगी स्वच्छता

 


फरवरी 2021 में यमुना के तट पर शुरू होने जा रहे वृंदावन कुंभ की व्यवस्था का तानाबाना अब तैयार होने लगा है। कुंभ मेला स्थल को प्रशासनिक दृष्टि से पांच सेक्टरों में विभाजित किया गया है, जिसकी स्वच्छता का जिम्मा 750 सफाई कर्मचारियों के कंधों पर होगा।  

प्रयागराज कुंभ मेला स्वच्छता के चलते चर्चाओं में रहा। इसी का संदेश अब भगवान श्रीकृष्ण की लीला स्थली वृंदावन में भी देने के लिए प्रशासनिक मशीनरी पर दबाव है। सफाई को लेकर रणनीति नगर निगम द्वारा तय की गई है। वृंदावन की स्वच्छता व्यवस्था तीन अलग-अलग स्तर पर रहेगी। इसमें कुंभ क्षेत्र, परिक्रमा क्षेत्र और वृंदावन नगरीय क्षेत्र शामिल किए गए हैं।

कुंभ के लिए 750 सफाई कर्मचारी बाहर से बुलाए जा रहे हैं। उन्हें मेला क्षेत्र के पांच सेक्टरों में सफाई की जिम्मेदारी मिलेगी। परिक्रमा का दायित्व वर्तमान व्यवस्था के तहत उज्ज्वल ब्रज पर ही रहेगा, जबकि नगरीय क्षेत्र में वर्तमान व्यवस्था के अलावा अतिरिक्त प्रबंध किए जाएंगे।

अपर नगर आयुक्त सतेंद्र कुमार का कहना है कि कुंभ के दौरान भीड़ का दबाव नगरीय क्षेत्र में भी रहेगा। ऐसे में सफाई की व्यवस्था को अलग-अलग बांटा जाएगा। इस दौरान संपूर्ण वृंदावन स्वच्छ रहना चाहिए,इसी रणनीति के तहत काम किया जा रहा है।

वृंदावन में लगने वाले कुंभ में जेनर्म की करीब 140 बसें दौड़ाई जाएंगी। यह बसें कुंभ स्नान को आने-जाने वालों की सुविधा के लिए लगाई जाएंगी। फरवरी से वृंदावन के कुंभ में संत, महंत और श्रद्धालु स्नान के लिए उमड़ेंगे। इस कुंभ में आने वालों को असुविधा न हो, इसका भी ख्याल रखा जा रहा है। इनके आवागमन के लिए करीब 140 जेनर्म की बसें लगाई जाएंगी। यह बसें रेलवे स्टेशन, मथुरा के दोनों बस अड्डे और वृंदावन के अड्डे से मिल सकेंगी। जेनर्म की छोटी बसों को कुंभ में इसलिए लगाया जा रहा है, जिससे की जाम के हालात नहीं बने। मथुरा डिपो ने तैयारी शुरू कर दी है।

मथुरा डिपो के बेड़े में करीब 55 जेनर्म की बसें हैं। इसके अलावा करीब 70 बसें आगरा से मंगाई जाएंगी। इसके अलावा रोडवेज अन्य बसों का भी इंतजाम करेगा। मकसद है कि कोई परेशानी आवागमन में न हो।कुंभ मेले के लिए मथुरा डिपो तैयार: गुप्ताकुंभ के किए तैयारी शुरू कर दी है। करीब 140 बसें कुंभ लगाई जाएंगी। मथुरा पर 55 और आगरा से 70 बसें मंगाई जाएंगी। इसके अलावा छोटी बसें मंगवाएंगे। -नरेश चंद गुप्ता, एआरएम, मथुरा डिपो



Featured Post

भारत सरकार ने दूरस्थ शिक्षा की गुणवत्ता पर लगाई मोहर: प्रोफेसर सीमा सिंह

कानपुर। मुक्त और दूरस्थ शिक्षा को उच्च शिक्षा से वंचित ग्रामीण अंचलों के शिक्षार्थियों के द्वार तक ले जाने में अध्ययन केंद्र बहुत महत्वपूर्ण...