बर्रा में फिरौती और आशनाई के चक्कर में दोस्तों ने कर डाला दोस्त का कत्ल

 


कानपुर। बर्रा 2 रामजानकी मंदिर के पास रहने वाले रिटायर्ड ऑर्डिनेंस कर्मी के 26 वर्षीय बेटे की उसके दोस्तों ने अपरहण के बाद हत्या कर दी और उसका शव बिधनू के रिन्द नदी के पास फेक कर फरार हो गए।



बर्रा मनोहर नगर निवासी रिटायर ऑर्डिनेंस फैक्ट्रीकर्मी राम अवतार का छोटा बेटा विनय कुमार उर्फ छोटू (26) चौबेपुर स्थित लोहिया फैक्टरी में नौकरी करता था। परिजनों ने बताया कि विनय शुक्रवार शाम करीब सात बजे ड्यूटी से घर लौटा था और कुछ देर बाद एक कॉल आने पर बाइक से निकल गया था। काफी देर बाद भी घर न लौटने पर उसकी तलाश की जा रही थी। शनिवार सुबह करीब पांच बजे बर्रा थाने की पुलिस घर पहुंची और विनय की बाइक कर्रही रोड ठाकुर चौराहे के पास मिलने की जानकारी दी, लेकिन पुलिस पोस्टमार्टम हाउस ले गई, जहां  विनय का शव था। घटना से परिवार में कोहराम मच गया।

बर्रा इंस्पेक्टर हरमीत सिंह ने बताया कि विनय के दो दोस्तों ने अपहरण कर फिरौती के लिए उनकी हत्या कर शव बिधनू के रिन्द नदी के पास फेंका था। उसका शव बिधनू में रिन्द नदी के पास मिलने पर बिधनू और बर्रा पुलिस पहुंची। पुलिस ने बाइक के रिजस्ट्रेशन पेपर के जरिये परिजनों को घटना की जानकारी दी। मामले में पुलिस ने मृतक के दो दोस्तों को पकड़ा है।

पूरी घटना का खुलासा करते हुए एसपी दक्षिण दीपक भूकर ने बताया कि विनय देर रात अपने दोस्त शैलेन्द्र नाथ और हर्ष के बुलाने पर घर से निकला था।जिसके बाद शैलेन्द्र ने अपने घर पर तीनों ने मिल कर शराब पी और पहले से ही योजना बना कर बैठे शैलेन्द्र और हर्ष ने विनय की फरसे से हमला कर विनय की हत्या कर दी।जिसके बाद दोनों ने विनय के शव को बोरे में भर कर मोटरसाइकिल पर लेजाकर बिधनू के रिन्द नदी के किनारे फेक कर भाग निकले। इसी बीच हत्यारोपी शैलेन्द्र के परिजनों ने पुलिस को अपने घर मे किसी घटना को अंजाम दिए जाने की सूचना दी।जिसपर पुलिस हरकत में आई और मौका रहते ही पुलिस ने शैलेन्द्र और हर्ष को पकड़ लिया। जिसके बाद दोनो ने अपने द्वारा दी गयी घटना को कबूला।एसपी ने बताया कि हत्या करने के बाद हत्यारोपी मृतक विनय के परिजनों ने 10 लाख रुपये की फिरौती मांगने की योजना बना रहे थे। वही पुलिस ने विनय के शव और आलाकत्ल को दोनों की निशानदेही पर बरामद कर लिया है और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है ।

Featured Post

भारत सरकार ने दूरस्थ शिक्षा की गुणवत्ता पर लगाई मोहर: प्रोफेसर सीमा सिंह

कानपुर। मुक्त और दूरस्थ शिक्षा को उच्च शिक्षा से वंचित ग्रामीण अंचलों के शिक्षार्थियों के द्वार तक ले जाने में अध्ययन केंद्र बहुत महत्वपूर्ण...