चीनी आक्रमण की 60वीं बरसी पर भारत तिब्बत सहयोग मंच ने किया विरोध प्रदर्शन

कानपुर। भारत तिब्बत सहयोग मंच कानपुर प्रान्त द्वारा  कई जिलो में चीनी आक्रमण की 60वीं बरसी पर चीन का विरोध प्रदर्शन व चीनी वस्तुओं का बहिष्कार 20 अक्टूबर,2022 को किया गया। इस मौके पर आज घंटाघर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक एवं भारत तिब्बत सहयोग मंच के मार्गदर्शक डॉ इंद्रेश कुमार जी के मार्गदर्शन एवं राष्ट्रीय महामंत्री श्री पंकज गोयल के आवाहन व पूर्वी उत्तर प्रदेश सयोजक श्री मनोज श्रीवास्तव के निर्देश व संयोजन पर देश के प्रति समर्पित मंच ने चीन द्वारा भारत पर आक्रमण की 60वीं बरसी के अवसर पर चीन व चीनी वस्तुओं के बहिष्कार के लिये विरोध प्रदर्शन किया। मक्कार एवं धूर्त चीन द्वारा 60 वर्ष पहले की गई मक्कारी के खिलाफ प्रचंड विरोध- प्रदर्शन कर मुख्य वक्ताओ ने कहा कि जिस प्रकार धोखे से हिंदी- चीनी भाई -भाई का नारा लगाते हुए 1962 में 20 अक्टूबर को चीन ने भारत पर आक्रमण कर दिया था और भारत के काफी सैनिक इस धोखे से थोपे गए युद्ध में वीरगति को प्राप्त हो गये थे और इस युद्ध में चीन  ने भारत की हजारों वर्ग किलोमीटर जमीन पर कब्जा कर लिया था ।।किंतु चीन को अब यह अच्छी तरह समझ लेना चाहिए कि आज का भारत 1962 का भारत नहीं हैl ।यह 2022 का भारत है, जिसका नेतृत्व एक राष्ट्रवादी सरकार कर रही हैl वर्तमान सरकार चीन को हर मोर्चे पर मुंहतोड़ जवाब दे रही है। अब यदि चीन ऐसी कोई हरकत करेगा तो भारत उसका मुंहतोड़ जवाब देगा। जिसका नमूना चीन ने पहले डोकलाम फिर गलवान घाटी में देख लिया है। आज का भारत अपनी मातृभूमि की सुरक्षा करने में पूर्ण रूप से सक्षम है। कानपुर महानगर में आयोजित कार्यक्रम भारत तिब्बत सहयोग मंच की प्रान्त मातृ मंडल उपाध्यक्ष श्रीमती अभिलाषा तिवारी के नेतृत्व में हुआ। उन्होंने चीन को चेतावनी देते हुए माँग की, कि चीन अब तो शीघ्र ही कैलाश मानसरोवर एवं तिब्बत को मुक्त करे नहीं तो हमें लेना भी आता है ,उन्होंने आगे कहा कि वर्तमान राष्ट्रवादी सरकार भगवान भोलेनाथ के निवास स्थान कैलाश मानसरोवर को मुक्त करवा कर ही रहेगी और 1962 में चीन द्वारा कब्जा की गई भारत भूमि को फिर से बिना लिए चैन से नहीं बैठेगी। 

मंच के कानपुर महानगर के वरि. मंत्री रिपुसूदन निगम ने कहा कि मंच के कार्यकर्ता चीन के नापाक मंसूबो के खिलाफ लंबे समय से जन जागरण का कार्य कर रहे हैं, जिसका परिणाम आज देखने को मिल रहा है। मंच के प्रयासों से पूरी दुनिया में चीन के खिलाफ माहौल बन चुका है। यह मंच के लिए बेहद गर्व की बात है। 

जिला इटावा में मंच की महिला विभाग प्रान्त अध्यक्षा श्रीमती अनुपम चौधरी के नेतृत्व में विशाल विरोध प्रदर्शन व चीनी पुतला, चीनी वस्तुओं झालरों को नष्ट किया गया। बाद में  एक गोष्टी में चीन व चीनी वस्तुओं के बहिष्कार का संकल्प लिया। जिला उपाध्यक्ष विमल गुप्ता , जिला मंत्री निशा एव संचालन जिला उपाध्यक्ष अनीता जी के द्वारा किया गया मुख्य वक्ता के रूप से इटावा आरएसएस एवं बीजेपी प्रदेश कार्यकारिणी समित के सदस्य डॉ रमाकांत शर्मा जी ने धूर्त चीन की 1962 की कायराना हरकतों की जानकारी दी गईं। जिला संरक्षक विनती गुप्ता, जिला अध्यक्ष प्रणव, विमल गुप्ता, राम कुमार वर्मा, अनुराग, अजय प्रकाश , कृष्ण कांत एव प्रचार जी भारत सिंह मातृमंडल, जिलाध्यक्ष संगीता मिश्रा, निशा गुप्ता, विमल, नन्दनी , प्रीती , प्रतिभा एव डॉ कल्पना एव अन्य सहयोगी थे। 

जिला कन्नौज में मंच के जिला अध्यक्ष प्रशांत अवस्थी के नेतृत्व में विरोध प्रदर्शन व चीनी उत्पाद के बहिष्कार में करने संकल्प एव तिब्ब्त की आजादी , मानसरोवर मुक्ति के लिए एक जागरूक सभा व गोष्टी की। जिसमें जिला उपाध्यक्ष , चिराग मिश्रा जिला मंत्री अमन दुवे एव संगठन के अनेक कार्यकर्ता रहे। 

जिला औऱया के एरवाकटरा में जिला मंत्री अनूप गुप्ता की अगुआई में चीनी आक्रमण की 60वी बरसी व चीनी उत्पादों के विरोध, बहिष्कार के लिये प्रदर्शन हुआ। सह मंत्री अनुराग गुप्ता जी मातृ मंडल वरिष्ठ जिला उपध्यक्षया श्रीमती अवधेश कुमारी, मेघा कश्यप आदि कार्यकर्ता रहे।

Popular posts from this blog

घायलों की मदद करने वाले समाजसेवियों को किया गया सम्मानित

पूनम्स पब्लिक स्कूल में हुआ विज्ञान प्रदर्शनी का आयोजन

नेशनल मीडिया प्रेस क्लब हर सदस्य को उपलब्ध कराएगा स्वरोजगार का अवसर